बुधवार, 7 सितंबर 2016

एन डी देहाती की चार लाइन व्यंग्य रचना। काहे बिछ्वले ना खटिया काहे बिछ्वले ना। पीके मार दिहलसि तोर मतिया खटिया काहे बिछवेले ना। कुपित देवरिया के धरत्तिया लिहले हमरो इजतिया ना। खटिया लूटल पटिया टूटल नकिया कटवले ना। हंसे बिरोधी त फाटे छतिया खटिया काहे बिछ्वले ना। कहे गावे के फुलमतिया बरिजत रहे एन डी देहतिया पपुआ मनलसि नाही बतिया खटिया काहे बिछ्वले ना। देश दुनिया में भईल फाजिह्तिया खटिया काहे बिछ्वले ना।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आपन विचार लिखी..

हम अपनी ब्लॉग पर राउर स्वागत करतानी | अगर रउरो की मन में अइसन कुछ बा जवन दुनिया के सामने लावल चाहतानी तअ आपन लेख और फोटो हमें nddehati@gmail.com पर मेल करी| धन्वाद! एन. डी. देहाती

अपना ईमेल पता भरिये जिस पर आप लेख प्राप्त करना चाहते हो ।

अपना कीमती समय देने के लिए धन्यवाद